समस्तीपुर Town

समस्तीपुर में प्रवासियों के लिये बनाया गया टाइप-ए और नॉन टाइन-ए सेंटर

कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में अपर समाहर्ता सह लोक शिकायत निवारण अधिकारी राजीव रंजन सिंहा ने शुक्रवार को प्रेसवार्ता में बताया कि जिले में अन्य परदेशों से लौट रहे प्रवासियों के लिए प्रखंड स्तर पर स्क्रीनिंग केंद्र बनाया गया। कोविड लक्षण वाले लोगों को कैंप में 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन किया जाएगा और बिना लक्षण वाले लोगों को अब होम क्वारंटाइन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इससे पूर्व गैर प्रांतों से आने वाले सभी लोगों का निबंधन किया जाएगा। साथ ही सूखे राशन की व्यवस्था की गई है। अपर समाहर्ता ने बताया कि अन्य परदेशों से आ रहे प्रवासियों को अब दो भागों में बांटा गया है।

टाइप ए में शहर सूरत, अहमदाबाद, मुंबई, पुणे, दिल्ली, कोलकता और बंगलुरु के प्रवासियों को क्वारंटाइन कैंप में रखा जाएगा। वहीं नॉन टाइप ए में अन्य परदेशों से आने वाले लोगों को ्क्रिरनिंग कर होम क्वारंटाइन के लिए भेज दिया जाएगा। इससे पूर्व यह सुनिश्चित किया जाएगा कि टाइप ए और नॉन टाइप ए शहर से आने वाले लोग एक दूसरे के संपर्क नहीं हो। यदि दोनों के बीच संपर्क हुआ तो उन्हें क्वारंटीन कैंप में आवासित किया जाएगा। मौके पर डीपीआरओ ऋषभ कुमार उपस्थित थे।

क्वारंटाइन केंद्र पर की गयी सभी व्यवस्था : उन्होंनें बताया कि गैर प्रांतों से आ रहे जिले के सभी क्वारंटीन कैंप प्रखंड स्तरीय कैंप के स्तर पर चलाए जाएंगे। यहां पुलिस के द्वारा कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। इन केन्द्रों पर आवासित व्यक्तियों के अनुपात से शौचालय की व्यवस्था की जाएगी। आवासितों के ससमय भोजन, पेयजल, साफ-सफाई और शौचालय की व्यवस्था क्वारंटाइन कैंप के प्रभारी सुनिश्चित करेंगे। पंचायत स्तर पर क्वारंटीन कैंप में रह रहे आवासितों की जांच कर होम क्वारंटाइन किया जाएगा।

सभी प्रवासियों का होगा निबंधन

प्रवासियों के लिए अलग अलग रजिस्ट्रेशन की सुविधा है। यहां न्यूनतम 300 लोगों को बैठने की व्यवस्था होगी। रजिस्ट्रेशन काउंटर पर लोगों को नाम, पता, फोन नंबर, बैंक खाता संख्या, आधार कार्ड संख्या लिया जाएगा। रजिस्ट्रेशन कैंप की जिम्मेदारी प्रखंड विकास पदाधिकारी व क्वारंटीन कैंप की जिम्मेदारी अंचलाधिकारी को दी गई है।

Share This Post