वारिसनगर

सीएसपी संचालक व चौकीदार का पुत्र ही निकला लूटकांड का लाइनर

समस्तीपुर । खानपुर थाना क्षेत्र में सीएसपी संचालकों से लूट मामले में पुलिस को खासी सफलता हाथ लगी है। बदमाशों के पास से लूट की रकम, घटना में प्रयुक्त दो बाइक और चार मोबाइल सेट भी बरामद हुआ है। गिरफ्तार शातिर की पहचान वारिसनगर थाना क्षेत्र के बाबूपुर निवासी मनीष राय और विकास राय एवं खानपुर थाना के दिलवनपुर भोला टोल निवासी जितेन्द्र कुमार के रुप में हुई है। शनिवार को एसपी विकास बर्मन ने लूटकांड का पर्दाफाश किया। बताया कि पकड़े गए सभी आरोपित एक संगठित गिरोह के सदस्य हैं। आरोपितों के पास से लूट के 5 लाख 5 हजार रुपये, घटना में प्रयुक्त दो बाइक और चार मोबाइल सेट बरामद हुआ। एसपी का दावा है कि सभी आरोपितों ने घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है और अपने अन्य सहयोगियों का नाम भी बताया है। गिरफ्तार आरोपितों की निशानदेही पर अखिलेश राय उर्फ अटल और डेकारी के सीएसपी संचालक लालबाबू राय और राजाबाबू के संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। बताया कि आरोपित जितेन्द्र कुमार के पिता रामकिशोर यादव खानपुर थाना में चौकीदार हैं। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि लूटकांड में संलिप्त अन्य आरोपितों के संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। बतादें कि 15 जुलाई को बाइक सवार अपराधियों ने खानापुर थाना क्षेत्र के खतुआहा में सीएसपी संचालकों से हथियार के बल पर 8 लाख 55 हजार पर लूट की घटना को अंजाम दिया था। सदर डीएसपी प्रितिश कुमार के नेतृत्व में गठित एसआइटी टीम में मुफस्सिल थानाध्यक्ष विक्रम आचार्य, खानपुर थानाध्यक्ष दिल कुमार भारती, वारिसनगर थानाध्यक्ष प्रसुंजय कुमार, कल्याणपुर थानाध्यक्ष ब्रजेश कुमार, डीआइयू प्रभारी परमानंद लाल कर्ण, संजय कुमार सिंह, रोहित कुमार सिंह, अखिलेश कुमार समेत सशस्त्र बल के जवान शामिल रहे।

चौकीदार का पुत्र कर ही निकला लूटकांड का लाइनर

लूटकांड में जितेन्द्र और डेकारी के सीएसपी संचालक लालबाबू प्रसाद लोकल लाइनर का काम कर रहे थे। जितेन्द्र ने लालबाबू राय से 60 हजार रुपये उधार लिया था। उधार की रकम वापस लेने के लिए दोनों ने मिल कर साजिश रची। अपने सहयोगी मनीष कुमार, अखिलेश राय उर्फ अटल, विकास कुमार और राजाबाबू को भी लूटकांड की साजिश में शामिल किया। रची साजिश के तहत 15 जुलाई को बदमाशों ने एक ही बाइक पर सवार तीन सीएसपी संचालकों के बैग से 8 लाख 55 हजार रुपये लूट लिए। इसके बाद सभी ने लूट की रकम में अपनी हिस्सेदारी तय की। जितेन्द्र को 1 लाख 20 हजार रुपये मिले थे।

अपराधिक इतिहास

गिरफ्तार तीनों आरोपितों का आपराधिक इतिहास रहा है। वारिसनगर थाना कांड संख्या 342-19 लूटकांड और कल्याणपुर थानाकांड संख्या 103-19 आ‌र्म्स एक्ट के आरोपित हैं।

Share This Post