जरूर पढ़ें

Solar Eclipse 2020: कंकणाकृति सूर्य ग्रहण शुरू, गंगा स्नान, दान से मिलेगा पुण्य लाभ

Solar Eclipse 2020:  आषाढ़ अमावस्या रविवार को आज कंकणाकृति सूर्य ग्रहण शुरू हो गया है। यह भारत समेत दुनिया के कई देशों में दृश्यमान होगा। सूर्यग्रहण का आरंभ सुबह 9:16 बजे होगा। लेकिन स्पर्श का समय हर शहर में अलग-अलग है। आचार्य अवध नारायण द्विवेदी घनश्याम के अनुसार प्रयागराज में सूर्यग्रहण के स्पर्श का समय सुबह 10:31 बजे है। मध्य दोपहर 12:18 बजे और मोक्ष दोपहर 2:04 बजे होगा। जबकि पूर्ण रूप से मोक्ष का समय 3:04 बजे है।

ज्योतिषाचार्य उत्तम भट्टाचार्य के अनुसार ग्रहण में गंगा स्नान करने से पुण्य लाभ की प्राप्ति होती है। ग्रहण के आरंभ और ग्रहण पूर्ण होने पर भी स्नान करना चाहिए। मान्यता है कि जो व्यक्ति मोक्ष के बाद स्नान नहीं करता है, उस पर तब सूतक लगा रहता है, जब तक दूसरा ग्रहण नहीं आ जाता। ग्रहण काल में किया गया अनुष्ठान फलदायी होता है।

सूतक लगने से मन्दिरों के पट बन्द : शनिवार रात में सूतक शुरू होते ही मन्दिरों के पट बन्द कर दिए गए। ग्रहणकाल के दौरान भक्त भजन, कीर्तन और मंत्र जाप करेंगे।

मोक्ष काल के बाद होगा स्नान-दान: भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि के मुताबिक सूर्यग्रहण के मोक्षकाल के बाद हनुमान जी की प्रतिमा का गंगा जल और दूध-दही से अभिषेक किया जायेगा। शाम चार बजे महाआरती के साथ मंदिर श्रद्धालुओं के लिए खोला जाएगा। ग्रहण समाप्त होने के बाद श्रद्धालु गंगा स्नान और दान करेंगे।

Share This Post