समस्तीपुर विधानसभा चुनाव 2020

Samastipur Public Opinion : बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में निर्दलीय उम्मीदवार इस बार समस्तीपुर से मार सकते हैं बाजी

समस्तीपुर : समस्तीपुर विधानसभा में कुल 10 सीटें हैं, जिसमे सबसे लोकप्रिय सीट है 133 समस्तीपुर विधानसभा का जहाँ से पिछले दो बार से राजद से अख्तरुल इस्लाम साहिन जीतते आये हैं। उनसे पहले इस सीट पे जननायक कर्पूरी ठाकुर के बेटे रामनाथ ठाकुर जितते आ रहे थे लेकिन राजद के अख्तरुल इस्लाम साहिन से हारने के बाद मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने रामनाथ ठाकुर को राज्यसभा भेज दिया जहाँ वो दूसरी बार वर्तमान में भी सांसद हैं। रामनाथ ठाकुर के हटने के बाद भाजपा ने इस सीट पर अपनी नजर जमा दी लेकिन 2015 के जदयू-राजद गठबंधन के सामने भाजपा की रेनू कुशवाहा कुछ अंतर से पीछे रह गयी। अब 2020 में भाजपा, राजद के वर्तमान विधायक को इस बार हराने का दावा कर इस सीट पर नजर गराये बैठी है। हालाँकि पिछले वर्षों की भाँती इस वर्ष भी सीट एक और उम्मीदवार अनेक होने की वजह से भाजपा में अंदरूनी कलह होने की संभावना भी बढ़ती जा रही है। वैसे देखें तो फ़िलहाल ये सीट जदयू, भाजपा या फिर लोजपा में किसके खाते में जाएगी ये कहा नहीं जा सकता। आगे का गठजोड़ तो सीट वटवारे के बाद सामने आयेगा।

वहीं बात अगर निर्दलीय उम्मीदवारों की करें तो अविनाश कुमार बादल सिंह का नाम सबसे ऊपर आ रहा है। हिंदूवादी छवि के नेता और समाजसेवा में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने वाले बदल सिंह की लोकप्रियता को समस्तीपुर में दबाया नहीं जा सकता। अपनी राष्ट्रवादी गतिविधियों के कारण बादल सिंह समस्तीपुर के युवाओं के बिच काफी लोकप्रिय माने जाते हैं। बदल सिंह की लोकप्रियता 133 समस्तीपुर विधानसभा में किसी पार्टी के बड़े कार्यकर्त्ता से भी अधिक है। सनातन रक्तदान के संचालक होने के नाते बदल सिंह ने छेत्र में बहोत से जरुरतमंदो तक सही समय पर रक्त पहुंचाया है जिससे जिले के लोग वाकिफ हैं और बदल सिंह के प्रति झुकाव और सहानभूति रखते हैं। कुल मिला कर समझें तो बदल सिंह वर्तमान विधायक को टक्कर देकर अपनी लोकप्रियता की वजह से इस बार के चुनाव का रुख मोड़ने का दम ख़म रखते हैं।

Share This Post