समस्तीपुर Town

समस्तीपुर की जनता गयी भाड़ में हम तो करेंगे जिम: सांसद प्रिंस पासवान

समस्तीपुर: पूरा जिला कोरोना महामारी, वज्रपात, बारिश और फसल बर्बाद होने से त्राहिमाम कर रही है वहीं समस्तीपुर के सांसद प्रिन्स पासवान जनता की समस्याओं को अनदेखा कर खैरात में मिली राज गद्दी का लुफ्त उठा रहे हैं, जी हाँ लोजपा सांसद जनता को छोड़ जिम करने में लगे हैं। समस्तीपुर में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। लॉकडाउन फिर से लगा दिया गया है और शहर की अधिकतम गालियां कन्टेनमेंट जॉन बन चुकी हैं। लोग 22 मार्च से 20 जुलाई तक़रीबन 4 महीने से इस महामारी से परेशान हैं लेकिन बीते चार महीनों में एक बार भी स्थानीय सांसद ने शहर के लिए एक भी कार्य नहीं किया जिससे पुरे छेत्र की जनता में आक्रोश बना हुआ है।

सांसद ने नहीं दिया था पैसा

सांसद ने दिखावे के लिए संसद निधि फंड से दिया था पैसा लेकिन केंद्र सरकार द्वारा कोरोना महामारी में सांसदों का फंड रोका गया जिसकी वजह से एक रुपया भी आम लोगों तक नहीं पहुंचा। सांसद ने न तो निजी रूप से कोई फंड दिया न हीं जनता के बिच आ कर उन्हें हौसला दिया यहाँ तक की सत्ता के नशे में चूर संसद महोदय स्थानीय जनता का फोन तक नहीं उठाते हैं।

जनता से वोट लेकर फिर 4 साल गायब रहने का इतिहास रहा है प्रिन्स पासवान का

प्रिंस पासवान से पहले उनके पिता रामचंदर पासवान पहली बार समस्तीपुर से संसद बने थे तब लोगों ने मोदी के नाम पर उन्हें इस उम्मीद पर जिताया की शायद भाजपा के साथ होने से संसद महोदय छेत्र में कार्य करेंगे लेकिन उन्होंने भी जीत ने के बाद समस्तीपुर में 4 वर्षों में कोई कार्य नहीं किया और उसी विरासत को उनके पुत्र जनता की आँख में धूल झोंक कर आगे बढ़ा रहे हैं।

पिता की मौत की सहानभूति के लिए जनता ने दिया वोट

रामचंदर पासवान के आकस्मिक निधन के बाद लोगों को उनके परिवार के प्रति सहानभूति हुई जिस वजह से लोगों ने उन्हें वोट देकर जिताया और एक उम्मीद भी था की युवा चेहरा छेत्र के लिए कार्य करेगा लेकिन प्रिन्स पासवान जीत ने के बाद तो मानो सत्ता की नशा में ऐसे चूर हैं जैसे वो आजीवन संसद बन गए हों। बता दें की सांसद महोदय समय समय पर समस्तीपुर को लेकर कुछ ट्वीट कर देते हैं या औपचारिकता के तौर पर प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिख देते और सोचते हैं’की भोली जानता ये देख कर समझेगी के सांसद महोदय अपने छेत्र के लिए कार्य कर रहे हैं लेकिन उन्हें नहीं पता की जैसे वो युवा चेहरा हैं ठीक ऐसे ही अब समस्तीपुर के युवा भी जागरूक हैं उनका सारा छलावा समझते हैं।

Share This Post