समस्तीपुर Town

समस्तीपुर : कृषि विवि ने तैयार किया मुनाफा देने वाले गन्ना के प्रभेद

कोरोना से जूझ रहे राज्य के किसानों के लिए अच्छी खबर है। डॉ़ राजेन्द्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विवि से जुड़े ईख अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों ने एक साथ गन्ना के पांच नये प्रभेद विकसित किए हैं। इसमें तीन अगात व दो मध्य पछात प्रभेद शामिल हैं। इसकी अच्छी उपज के साथ रस में चीनी की मात्रा अन्य की तुलना में एक से डेढ़ प्रतिशत अधिक हैं। कुलपति डॉ़ आरसी श्रीवास्तव व निदेशक डॉ़ अनिल कुमार सिंह की देखरेख में संचालित शोध के प्रतिफल से गन्ना किसान सशक्त हों सकेंगे। वैज्ञानिक की मानें तो उक्त प्रभेदों की ब्रीडिंग वर्ष 2010-11 में कोयम्बटूर स्थित गन्ना प्रजनन संस्थान में (वैज्ञानिक डॉ़ डीएन कामत व डॉ़ बलवंत कुमार ने) की गई थी। बीते 10 वषार्ें के सफल चयन व प्रत्यक्षण के आधार पर इसे चिन्हित व नामित किया गया है। इन प्रभेदों से राज्य में गन्ने की औसत उपज व चीनी की परता दोनों में वृद्घि होगी। वैज्ञानिक के अनुसार इसकी रोपनी अक्टूबर-नवम्बर व फरवरी-मार्च में होती है।

गन्ना वैज्ञानिक व प्रजनक डॉ़ डीएन कामत ने बताया कि प्रभेदों की औसत उपज सौ टन प्रति हेक्टेयर है। जबकि रस में चीनी की मात्रा अगात प्रभेद में आठ महीनें पर 18़18 से 18़40 प्रतिशत एवं 10 महीनें पर 18़83 से 19़79 प्रतिशत है। जबकि मध्य पछात प्रभेद में 10 महीनें पर 16़61 से 16़90 एवं 12 महीनें पर 16़98 से 18़07 प्रतिशत होता है। वैज्ञानिक के अनुसार वर्तमान समय में इस प्रभेद की उपलब्धता कम है। इसे गुणन करने की दिशा में कार्य किये जा रहे हैं। वैज्ञानिक टीम में है शामिल

वैज्ञानिक टीम में डॉ़डीएन कामत व डॉ़ बलवन्त कुमार प्रजनक के रूप् में शामिल हैं। जबकि अन्य सहयोगी वैज्ञानिकों में डॉ़ नवनीत कुमार, डॉ़ एसके ठाकुर, डॉ़ मो़ मिनातुल्लाह, डॉ़ हरिचन्द, डॉ़ सीके झा, डॉ़ एसके सिन्हा, डॉ़ शिवपूजन सिंह, सुधीर पासवान, डॉ़ एसएन सिंह, डॉ़ अनिल कुमार व अन्य वैज्ञानिक एवं तकनीकी कर्मी शामिल हैं।

कौन-कौन से हैं नये प्रभेद

अगात प्रभेद – को.पू-20436, को.पू.-20437, को.पू.-20438 ।

मध्य पछात प्रभेद- को.पू.-20439, को.पू.-20440

Share This Post