समस्तीपुर Town

श्रम कानून में संशोधन की मांग को लेकर समस्तीपुर में मनाया प्रतिवाद दिवस

बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ जिला शाखा के बैनर तले कर्मचारियों ने गुरुवार को फिजिकल डिस्टेंस का पालन करते हुए प्रतिवाद दिवस मनाया।

समस्तीपुर । बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ जिला शाखा के बैनर तले कर्मचारियों ने गुरुवार को फिजिकल डिस्टेंस का पालन करते हुए प्रतिवाद दिवस मनाया। कर्मियों ने मांगों के समर्थन में समाहरणालय पर प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने केंद्र और राज्य सरकार द्वारा श्रम कानूनों में संशोधन करने, काम को आठ के बदले 12 घंटा किए जाने, महंगाई भत्ता पर रोक हटाने, अवकाश वेतन भुगतान पर रोक हटाने की मांग की। सरकार से सभी रिक्त पदों पर स्थायी नियुक्ति करने, नई पेंशन स्कीम को वापस लेने, सभी संविदा कर्मियों की सेवा स्थायी करने, कोविड-19 संक्रमण में लगे सभी कर्मियों को बीमा का लाभ देने, सुरक्षा किट उपलब्ध कराने की मांग की। केंद्र सरकार द्वारा सरकारी संस्थाओं में निजी निवेश करने, सरकारी संस्थाओं को कमजोर कर पूंजीपतियों के हवाले करने के निर्णय को वापस लेने की मांग कर रहे थे। इस दौरान सभा भवन परिसर में सभा हुई। अध्यक्षता विनोद कुमार सिंह ने की। सभा को संबोधित करते हुए पूर्व राज्याध्यक्ष लक्ष्मीकांत झा ने कहा कि कोविड-19 महामारी से पूरी दुनिया और देश लड़ रहा। आवश्यक सेवाओं में कर्मचारी, शिक्षक व पुलिस दिन रात कड़ी मेहनत कर रहे। केंद्र एवं राज्य सरकार इसके आर में बहाली पर रोक के साथ ही कार्यरत एवं पेंशनर के भत्ते की कटौती कर रही। आठ घंटा काम, आठ घंटा आराम, आठ घंटा मनोरंजन के अधिकार पर हमला करते हुए पूंजीपतियों के पक्ष में 12 घंटा काम करने का श्रम कानून में संशोधन कर दिया है। 144वें श्रम सम्मेलन के प्रस्ताव का खुल्लम-खुल्ला उल्लंघन किया जा रहा है। सभा को जिला मंत्री राम कुमार झा, राम सेवक महतो, संजीव ठाकुर, चिकित्सा संघ के राजीव रंजन, चेत नारायण यादव, बिदु कुमारी सिंह, रंजना कुमारी, संयुक्ता कुमारी, द्वारिका महतो, भुवनेश्वर लाल, महेंद्र पंडित, कृष्ण कुमार राय, प्रदीप कुमार झा, मो. शमीम, ठक्कन राम आदि ने भी संबोधित किया।

Share This Post