समस्तीपुर Town

समस्तीपुर में महाराष्ट्र के मदरसा से लौटे लोग घरों में छिपे, ग्रामीणों के विरोध पर भिड़े दो गुट

समस्तीपुर । मोरवा प्रखंड की धर्मपुर बांदे पंचायत में महाराष्ट्र के मदरसा से आने के बाद चार लोगों के बिना क्वारंटाइन हुए घर पर रहने के कारण ग्रामीणों में आक्रोश उत्पन्न हो गया। महाराष्ट्र के मदरसा से चार दिन पूर्व चार लोग धर्मपुर बांदे पंचायत पहुंचे थे। सभी क्वारंटाइन सेंटर में रहने के बजाय अपने घर जाकर रहने लगे। इसकी सूचना प्रखंड प्रशासन को भी दी गई थी। बावजूद क्वारंटाइन नहीं होने से पंचायत में कोरोना को लेकर भय एवं दहशत व्याप्त हो गया। विदित हो कि प्रखंड की धर्मपुर बांदे एवं वनवीरा पंचायत में पूर्व से दूसरे प्रांतों से लोगों के आने का सिलसिला जारी है। यह अतिसंवेदनशील पंचायत भी घोषित की जा चुकी है। प्रखंड प्रशासन के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग की जांच टीम ने घर-घर जाकर जांच शुरू कर दिया था। इसके बावजूद महाराष्ट्र के मदरसे से आने वाले लोगों द्वारा स्वास्थ्य की जांच नहीं कराने एवं क्वारंटाइन नहीं किए जाने के बाद ग्रामीणों में आक्रोश भड़कने लगा। ग्रामीणों द्वारा उन चारों को बार-बार सलाह दिए जाने एवं प्रखंड प्रशासन को सूचना दिए जाने के बावजूद क्वारंटाइन सेंटर नहीं जाने से लोगों में आक्रोश पनप गया। शनिवार को पंचायत के सैकड़ों लोगों ने पहुंचकर भारी हंगामा शुरू कर दिया। आक्रोशित लोग दो खेमों में बंट गए। फलस्वरूप सांप्रदायिक सौहार्द बिगड़ने की आशंका उत्पन्न हो गई। दोनों गुटों में मारपीट की स्थिति उत्पन्न हो गई। इस घटना की सूचना मिलते ही प्रखंड प्रशासन एवं पटोरी के अनुमंडल पदाधिकारी मो. शफीक, डीएसपी विजय कुमार , इंस्पेक्टर हारून, हलई ओपी अध्यक्ष संदीप कुमार पाल सहित पटोरी एवं हलई पुलिस सहित कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई। धर्मपुर बांदे पंचायत पुलिस छावनी में तब्दील हो गया। पुलिस एवं प्रशासनिक सक्रियता से आक्रोशित ग्रामीणों को समझाना बुझाना शुरू कर दिया। उन चारों को पटोरी के आइसोलेशन सेंटर ले जाया गया। इसके बाद आक्रोशित लोगों का गुस्सा शांत हुआ। ओपी अध्यक्ष संदीप कुमार पाल के अनुसार स्थिति तनावपूर्ण, लेकिन पूरी तरह से नियंत्रण में है।

Share This Post