समस्तीपुर Town

मां की मिली प्रेरणा, धरती माता की कर रहे सेवा

समस्तीपुर । मां की ममता रूपी छांव जैसा सुकून कहीं नहीं। इसके बिना सारी दुनिया ही सूखा रेगिस्तान लगता है। मां की आंचल में दो माह कैसे बीत गया पता ही नहीं चल सका। 19 वर्षों से भारत माता की सेवा में लगे आर्मी जवान अमित कुमार इन दिनों मां की ममता से अभिभूत हैं। रोसड़ा के वार्ड नंबर छह निवासी अधिवक्ता उमेश प्रसाद सिंह के पुत्र अमित वर्तमान में कश्मीर में पदस्थापित हैं। होली पर्व के अवसर पर अपने घर आए थे और लॉकडाउन के कारण ड्यूटी पर नहीं लौट सके। युवा सैनिक ने लॉकडाउन के बहाने एक अरसे बाद मां के आंचल को सुखद बताया। शादीशुदा अमित कहते हैं, आज भी मां छोटे बच्चे की तरह ख्याल रखती है। आश्चर्य तो यह है मन में कोई बात आते ही वह खुद समझ जाती हैं। मेरा पसंदीदा डिश अपने हाथों से बनाकर पड़ोसती है। सुबह सवेरे उठने की नसीहत, समय पर नाश्ता और भोजन नहीं करने पर प्यार भरी फटकार और पत्नी-बच्चों के बीच भी कान ऐंठने का सुखद एहसास अकथनीय है। वाकई बचपन की याद पुन: एक बार तरोताजा हो गई है। नौकरी में जाने के बाद पहली बार मां के साथ इतने दिनों तक साथ गुजारना जीवन का ‌िर्स्वणम काल ही प्रतीत होता है। मां सुधा देवी के देश प्रेम की दास्तान सुनाते हुए अमित ने कहते हैं, मां की देश भावना का सम्मान कर ही मैंने भारत माता की सेवा का संकल्प लिया। वर्ष 2001 में आर्मी की नौकरी ज्वाइन की। चार वर्ष पूर्व 2016 में अचानक पिताजी की मौत के बाद भी मां ने कर्तव्य पथ से डिगने नहीं दिया। आज भी इमानदारी देश भक्ति तथा अनुशासन का पाठ हमेशा ही पढ़ाती रहती है।

Share This Post