बिहार

बिहार लौट रहे प्रवासी मजदूरों का एप से होगा स्किल सर्वे, मिलेगा रोजगार, सरकार ने की तैयारी

बिहार सरकार लाखों की संख्या में दूसरे राज्यों से लौट रहे प्रवासी मजदूरों का एप से स्किल सर्वे करा रही है. मुख्य सचिव स्तर पर बनी क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप ने सभी डीएम के साथ वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग कर मनरेगा के तहत ज्यादा से ज्यादा लोगों को काम मिले इसके निर्देश दिये. साथ ही कृषि इनपुट अनुदान व नये राशनकार्ड बनाने में तेजी लाने के अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि जो भी कार्य किये जा रहे हैं उनमें स्थानीय विधायकों की भी राय और फीडबैक ली जाये.

यह जानकारी सूचना सचिव अनुपम कुमार ने दी. उन्हाेने बताया कि गुरुवार को प्रदेश के विभिन्न स्टेशनों पर दूसरे राज्यों से 24 ट्रेनें आयेंगी. इनमें 28,467 लोगों के आने का अनुमान है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर आरंभ हुई डिजिटल प्रेस काॅन्फ्रेंस में स्वास्थ्य सचिव लोकेश कुमार सिंह व एडीजी मुख्यालय जितेंद्र कुमार भी शामिल हुए. राहत व क्वारेंटिन सेंटर में है 93,000 से अधिक लोगसूचना सचिव ने बताया कि मुख्य सचिव ने सभी डीएम को निर्देश दिया कि प्रखंड स्तरीय क्वारेंटिन सेंटर में पुख्ता व्यवस्था हो, जिससे वहां रहने वाले लोगों को किसी तरह की कोई परेशानी न हो.

अनुपम कुमार ने कहा कि राज्य में 187 आपदा राहत केंद्र चलाये जा रहे हैं, जिसका लाभ 63,250 लोग उठा रहे हैं. पंचायत स्तर पर स्थित 1160 क्वारेंटिन सेंटर में 11,000 लोग ठहरे हैं, जिन्हें भोजन व चिकित्सीय सुविधा मुहैया करायी जा रही है. उन्होंने बताया कि प्रखंड स्तर पर 3060 क्वारेंटिन सेंटर में 17,577 लोग लाभान्वित हाे रहे हैं. उन्होेंने बताया कि लाॅकडाउन के कारण बाहर फंसे 19.46 लाख प्रवासियों के खाते में हजार रुपये की सहायता राशि भेज दी गयी है. 29,328 सैंपल की जांच, 35% लोग हुए स्वस्थ्यस्वास्थ्य विभाग के सचिव लोकेश कुमार सिंह ने कहा कि बिहार में अब तक कोरोना के 29,328 जांच किये गये हैं. अभी तक कोरोना से 35% लोग ठीक हो चुके हैं. अब तक कुल 188 लोग कोरोना से स्वस्थ्य होकर घर जा चुके हैं. उन्होंने बताया कि बिहार में कोरोना से 32 जिले प्रभावित हैं. डोर-टू-डोर स्क्रीनिंग के तहत अब तक एक करोड़, 70 लाख घरों के और नौ करोड़, 49 लाख लोगों के सर्वेक्षण किये जा चुके हैं. इनमें 3819 लोगों में बुखार, खांसी व सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण पाये गये. स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि बिहार में कोरोना जांच की सुविधा सात लैब में मौजूद है और जांच की क्षमता बढ़ायी जा रही है.

Share This Post