जरूर पढ़ें

LIVE Vizag Gas Leak: 800 से ज्यादा अस्पताल में भर्ती, हादसे में अब तक सात लोगों की मौत

विशाखापट्टनम, एएनआइ/प्रेट्र।आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एक केमिकल प्लांट इकाई में आज सुबह गैस रिसाव होने से एक बड़ा हादसा हो गया। गैस लीक होने की घटना में अब तक 7 लोगों की मौत हो चुकी है।विशाखापट्टनम जिले के आरआर वेंकटपुरम गांव में गैस रिसाव की यह घटना सामने आई। आरआर वेंकटपुरम गांव में स्टाइलिन गैस रिसाव के बाद एक बच्चे सहित कम से कम सात लोगों की मौत हो गई है। एनडीआरएफ के महानिदेशक के मुताबिक 800 लोग अस्पताल में भर्ती हैं।

 राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने विशाखापट्टनम गैस लीक घटना पर दुख जताया है। उन्होंने कहा कि विशाखापट्टनम के पास एक संयंत्र में गैस रिसाव की खबर से दुखी, जिसने कई लोगों की जान ले ली। पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी संवेदना। मैं घायलों के ठीक होने और सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं।

हादसे पर दुख जताते हुए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि गैस लीक घटना के बारे में सुनकर गहरा दुख हुआ। मृतकों के परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं, मैं सभी की सलामती की प्रार्थना करता हूं। मैं पार्टी कार्यकर्ताओं से स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करते हुए प्रशासन के साथ समन्वय में हर संभव राहत प्रदान करने का अनुरोध करता हूं।

एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल) के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया कि स्थानीय लोगों ने गले और त्वचा में जलन और कुछ विषाक्त संक्रमण की सूचना दी, फिर पुलिस और प्रशासन हरकत में आया। लगभग 1000-1500 लोगों को निकाला गया है, जिनमें से 800 से अधिक लोगों को अस्पताल ले जाया गया है।

विशाखापट्टनम में हुए गैस रिसाव की घटना पर राज्यपाल ने दुख जताया है। उन्होंने अधिकारियों को युद्ध स्तर पर बचाव अभियान चलाने का आदेश दिया है। राज्यपाल ने बचाव अभियान में रेड क्रॉस स्वयं सेवकों की सेवाओं का लाभ उठाने का सुझाव दिया। उन्होंने विशाखापट्टनम रेड क्रॉस यूनिट को चिकित्सा शिविरों का गठन करने का आदेश दिया है।

विशाखापट्टनम की स्थिति को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने आंध्र प्रदेश के सीएम वाईएस जगनमोहन रेड्डी से बात की है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने जानकारी देते हुए बताया कि उन्होंने बातचीत के दौरान सभी तरह की मदद और सहायता का आश्वासन दिया है।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि विशाखापट्टनम में हुई घटना परेशान करने वाली है। एनडीएमए के अधिकारियों और संबंधित अधिकारियों से बात की है। हम स्थिति पर लगातार और बारीकी से नजर रख रहे हैं। मैं विशाखापट्टनम के लोगों की भलाई के लिए प्रार्थना करता हूं।

घटना से जुड़ी प्रारंभिक रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि स्टाइरीन(Styrene) गैस के रिसाव से यह हादसा हुआ है। इस गैस को पीवीसी गैस के रूप में भी जाना जाता है।

विशाखापट्टनम के जिला कलेक्टर विनय चंद ने किंग जॉर्ज अस्पताल का दौरा किया, जहां  प्रभावित लोगों का इलाज किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जानकारी दी गई है कि विशाखापट्टनम में गैस रिसाव की स्थिति के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह 11 बजे एनडीएमए की बैठक बुलाई है।

धानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर बताया है कि उन्होंने विशाखापट्टनम में स्थिति के संबंध में गृह मंत्रालयऔर एनडीएमए (राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण) के अधिकारियों से बात की है। इस घटना की कड़ी निगरानी की जा रही है।मैं विशाखापट्टनम में सभी की सुरक्षा और कल्याण के लिए प्रार्थना करता हूं।

– आंध्र प्रदेश के डीजीपी डीजी सावंग ने जानकारी दी है कि आंध्र प्रदेश में अब तक 7 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से एक मौत भागने की कोशिश में कुएं में गिरने से हुई है। डीजीपी के मुताबिक आज सुबह आज सुबह लगभग 3:30 बजे यह घटना हुई। निकासी अभियान अभी भी जारी है। देशव्यापी लॉकडाउन के कारण प्लांट बंद था।

– गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने विशाखापट्टन गैस रिसाव की घटना पर कहा है कि मरने वाले लोगों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है। मैंने स्थिति का जायजा लेने के लिए राज्य के मुख्य सचिव और DGP से बात की है।एनडीआरएफ की टीमों को आवश्यक राहत उपाय उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। अभूतपूर्व और दुर्भाग्यपूर्ण घटना में सैकड़ों लोग प्रभावित हुए। मैंने गृह सचिव, जीओआई से बात की और उनसे आवश्यक सहायता प्रदान करने का अनुरोध किया।

– इस बीच आंध्र प्रदेश के सीएम सीएम वाईएस जगन मोहन रेड्डी विशाखापट्टनम के लिए रवाना होंगे। वह किंग जॉर्ज अस्पताल जाएंगे जहां प्रभावितों का इलाज किया जा रहा है। मुख्यमंत्री स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं और जिला मशीनरी को तत्काल कदम उठाने और सभी सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए हैं।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने विशाखापट्टनम में गैस रिसाव की घटना के बारे में पूछताछ की है और ज़िले के अधिकारियों को ज़िंदगी बचाने और स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए हर संभव कदम उठाने का निर्देश दिया है।

– इससे पहले विशाखापट्टनम शहर के सीपी आरके मीणा ने  बताया कि गैस रिसाव पर काबू पा लिया गया है। एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंच गई हैं।आरके मीणा के मुताबिक गैस रिसाव का अधिकतम प्रभाव लगभग एक से डेढ़ किमी था लेकिन इसकी गंध 2 से ढ़ाई किमी के क्षेत्र तक फैली थी। 100 से 120 लोगों को फिलहाल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस घटना में कुल 3 व्यक्तियों की मौत हुई है। एफआईआर दर्ज कर ली गई है।सीपी आरके मीणा के मुताबिक यह स्टाइलिन गैस रिसाव था। हमने गांव को खाली कर दिया है।अब हम डोर-टू-डोर खोज कर रहे हैं।

– आरआर वेंकटपुरम गांव के एलजी पॉलिमर उद्योग में सामने आई इस घटना में आंखों में जलन और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद लोगों को अस्पताल ले जाया गया। पुलिस, फायर टेंडर, एंबुलेंस मौके पर पहुंची हैं और राहत एवं बचाव कार्य जारी है। वेस्ट जोन के एसीपी स्वरूप रानी ने बताया कि कि उद्योग से रासायनिक गैस का रिसाव 3 किमी तक फैला है, वहीं समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक विशाखापट्टनम में हुई गैस रिसाव की इस घटना में अब तक 70 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने घटना के बारे में जानकारी ली और विशाखापट्टनम के जिला कलेक्टर को प्रभावित लोगों के लिए उचित चिकित्सा देखभाल सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि कई लोग जमीन पर बेहेोशी की हालवत में पड़े हुए थे। यह घटना गोपालपट्टनम के पास नादुथोटा इलाके के आसपास स्थित पॉलिमर इकाई में हुई।

Share This Post