जरूर पढ़ें

बिहार में शुरू हो सकती है बिहार में शराब बिक्री,CIABC ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से शराबबंदी कानून पर विचार करने का किया आग्रह

बिहार में एक बार पुनः शराब बिक्री प्रारंभ करने के कवायद शुरू हो रही है। एक संस्था ने माननीय मुख्यमंत्री जी से आग्रह किया है कि जिस प्रकार बिहार कोरोना महामारी के कारण आर्थिक तंगी से जूझ रहा है इससे निपटा जा सकता है। कनफेडरेशन ऑफ इंडियन एल्कोहलिक बेवरेज कंपनी (CIABC) ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से शराबबंदी कानून पर विचार करने का आग्रह किया है। बता दें कि 2015 के चुनाव में जितने के पश्चात मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सात निश्चय में एक निश्चय शराबबंदी लागू करना था। सीआईएबीसी ने बिहार सरकार से नियंत्रित एवं जिम्मेदार तरीके से शराब व्यापार प्रारंभ करने की मांग की है।
क्या बिहार में फिर से शुरू होगी शराब की बिक्री? इस संगठन ने सीएम नीतीश को लिख
बिहार सरकार ने पांच अप्रैल 2016 को बिहार में शराब के निर्माण, व्यापार, भंडारण, परिवहन और बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था। संगठन के महानिदेशक विनोद गिरी ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में शराबबंदी को बोल्ड कदम बताते हुए इस फैसले के लिए उनकी तारीफ की। कहा कि यह अपने उद्देश्य को प्राप्त करने में सफल रहा है, लेकिन अब इस पर पुनर्विचार करने का समय आ गया है।

उन्होंने सरकार से यह भी अनुरोध किया कि वह केवल एक मूल्य बिंदु से ऊपर शराब उत्पादों की बिक्री की अनुमति दे, जिनके पास साधन हैं वे इसे खरीद सकते हैं, गिरी ने कहा कि सरकार को राज्य-आधारित शराब उत्पादकों को स्वतंत्र रूप से उत्पादन और निर्यात करने की अनुमति देनी चाहिए। इससे राज्य को 6-7 हजार करोड़ का राजस्व संग्रह होगा।

कोरोना महामारी के कारण केंद्र और राज्य सरकार के राजस्व में भारी कमी आई है। इस समय अगर बिहार में नियंत्रित और जिम्मेदारी पूर्वक तरीके से शराब की बिक्री की अनुमति दी जाती है, तो राज्य के राजस्व में अच्छी बढ़ोतरी होगी। दूसरे राज्यों की तरह बिहार में भी होम डिलेवरी या ऑनलाइन सेल की छूट मिले।

Share This Post