समस्तीपुर Town

एम्स की तरह अब समस्तीपुर में कियोस्क मशीन से लिया जा रहा कोरोना सैंपल

समस्तीपुर । दिल्ली एम्स की तरह अब समस्तीपुर में भी कियोस्क मशीन से कोरोना की जांच के लिए सैंपल लिए जा रहे हैं। जिले में अभी तक 23 यूनिट लगा दी गई है। कोरोना संदिग्ध मरीजों की जांच के लिए चिकित्सकों को जोखिम उठाना नहीं पड़ेगा। सुरक्षा के लिहाज से चिकित्सकों के लिए कियोस्क शमीन बेहतर है। इस मशीन की वजह से सैंपल लेने वाले तकनीशियन और चिकित्सकों को पीपीई किट की जरूरत नहीं पड़ेगी। फिर भी सुरक्षा के लिहाज से उपयोग कर सकते। वे सुरक्षा के घेरे में रहकर कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों के सैंपल ले रहे हैं। इससे उन्हें संक्रमण का खतरा कम होगा। सिविल सर्जन डॉ. रति रमण झा ने कहा कि कोरोना जांच के लिए यह मशीन काफी उपयोगी है। इस मशीन का इस्तेमाल के लिए सभी स्थानों पर लगाया गया है। यह एक छोटे से बूथ की तरह होती है। मशीन तीन तरफ से बंद रहती है, जबकि एक तरफ शीशा लगा होता है। बूथ के अंदर एक अल्ट्रावायलेट लाइट लगी होती है। इस तरह काम करेगी मशीन

सिविल सर्जन ने बताया कि इस मशीन के अंदर टेक्नीशियन रहेंगे। इनका दोनों हाथ बाहर रहेगा। मरीज के चेहरे पर उनका हाथ स्पर्श करेगा। टेक्नीशियन हाथ में गलव्स और अन्य जरूरी सुरक्षा के उपकरण पहने रहेंगे। मशीन के अंदर से ही मरीज के सैंपल लिए जाएंगे। इसकी खासियत यह है कि मशीन के अंदर रहने वाले व्यक्ति और मरीज के बीच कोई संपर्क नहीं होगा, जिससे संक्रमण का खतरा कम हो जाएगा। इस मशीन को वॉक इन सैंपल कियोस्क कहा जाता है।

Share This Post