समस्तीपुर Town

आधा रोटी खाएब, करब मजदूरी, ना जाएब परदेस

समस्तीपुर । कोरोना वायरस महामारी से बचाव को लेकर लॉकडाउन से गरीबों के बीच रोजी-रोटी की बहुत बड़ी समस्या उत्पन्न हो चुकी है। खानपुर प्रखंड क्षेत्र में करीब 55 दिन बाद मनरेगा से कार्य शुरू होने पर मजदूरों में रोजी-रोजगार की आस जगी है। कार्यस्थल पर कार्य के अनुपात में बिन बुलाए मजदूरों की संख्या अधिक देखी गई। रोजगार सेवक मो. रहमान कहते हैं क्या करें, कार्य के अनुपात में मजदूर बिन बुलाए अधिक चले आते हैं। 25 मजदूरों को बुलाया जाता है तो 75 से 100 मजदूर कार्य करना शरू कर देते हैं। हालांकि, इससे शारीरिक दूरी के नियम बिखर जाते हैं। कार्य के दौरान लोग एक-दूसरे के संपर्क में आते हैं। खानपुर दक्षणी पंचायत के प्रखंड परिसर में पोखरा उड़ाही कार्य शुरू हो चुका है। इस दौरान कार्य कर रहे मजदूर परिया देवी, पति राम विलास राम, पारो देवी पति लखन पासवान, शांति देवी, अर्जुन पासवान, आशा देवी पति चंदेश्वर राम कृष्णा देवी, सुरेश महतो शकुंतला देवी, धर्मशीला देवी सहित दर्जनों मजदूरों ने बताया कि आब हम त आधा रोटी खायब, करब मजदूरी न जाएब परदेश। इधर, कार्यक्रम पदाधिकारी उमेश कुमार कहते हैं बिहार सरकार द्वारा दिए गए दिशा निर्देश के अनुसार प्रखंड की अधिकतर पंचायतों में मनरेगा से कार्य युद्धस्तर पर शुरू कर दिया गया है।

Share This Post