समस्तीपुर विधानसभा चुनाव 2020

जानिए 133 समस्तीपुर विधानसभा सीट NDA में किस पार्टी के खाते में गई

बिहार में अब विधानसभा चुनाव बहुत करीब है. लेकिन अभी भी चिराग पासवान की पार्टी एलजेपी और नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के बीच घमशान जारी है. चिराग पासवान लगातार नीतीश सरकार पर हमलावर हैं. सूत्रों के हवाले से जो खबर आ रही है, वह जेडीयू की बेचैनी बढाने वाली है.चिराग पासवान ने विधानसभा चुनाव में सीटों के बटवारे का एक फार्मूला बीजेपी को दिया है. इस फ़ॉर्मूला के अनुसार बीजेपी को सबसे ज्यादा 102 सीटें और जेडीयू को अधिक्से अधिक 96 सीटें मिलनी चाहिए. चिराग पासवान का कहना है कि लोकसभा सीटों के आधार पर विधान सभा सीटों का बटवारा होना चाहिए.

चिराग पासवान के फ़ॉर्मूला के अनुसार जेडीयू के 16 सांसद हैं इस हिसाब से उन्हें 96 सीटें मिलनी चाहिए. उनके पास 6 लोकसभा और एक राज्यसभा सांसद है इसलिए कम से कम 42 सीटें और बीजेपी के पास सबसे ज्यादा सांसद हैं इसलिए उसे सबसे ज्यादा सीटें मिलनी चाहिए. चिराग पासवान का तर्क है कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने बहुत उदारता दिखाई है. दो सांसदों वाली पार्टी जेडीयू को अपने बराबर सीटों पर लड़ने का मौका दिया.उनका कहना है कि लोकसभा चुनाव में जीत दिलाने में मोदी मैज्क ने बहुत काम किया है.इसलिए इसबार तो बीजेपी को सबसे ज्यादा सीटें मिलनी चाहिए.

चिराग पासवान का कहना है कि उनके हिस्से की सीटें तो पहले से तय हैं.अमित शाह के साथ उसी समय बात हो गई थी जब नीतीश कुमार आरजेडी को छोड़कर बीजेपी के साथ आये थे.अमित शाह ने उन्हें भरोसा दिलाया था कि उनके NDA में आने से विधानसभा चुनाव में सीटों की संख्या पर कोई असर नहीं पड़ेगा.लेकिन उन्हें चिंता है बीजेपी को लेकर जिसे वो 102 दिलाना चाहते हैं.जाहिर है चिराग पासवान बीजेपी को भरोसे में लेकर नीतीश कुमार की नकेल कसना चाहते हैं क्योंकि उन्हें ये बखूबी पता है कि इस चुनाव में नीतीश कुमार को बीजेपी का साथ ज्यादा जरुरी है.

अगर चिराग पासवान के बयानों और भाजपा के सीटों के सममीकरण पे जायें तो 133 समस्तीपुर विधानसभा सीट या तो जदयू नहीं तो लोजपा के खाते में जायेगी। भाजपा अपनी सबसे सेफ सीट उजियारपुर छोड़ना नहीं चाहेगी और जदयू कुशवाहा बहुल सीट होने की वजह से अपने हिस्से में चाहेगी और वर्तमान में यहाँ लोजपा से प्रिंस पासवान सांसद हैं इस सममीकरण को देखते हुए ये सीट या तो जदयू नहीं तो लोजपा के खाते में जा सकती है। लेकिन स्थिति साफ़ सीट बंटवारे के बाद हीं होगी।

Share This Post