धर्म

Guru Purnima 2020: गुरुओं को समर्पित गुरु पूर्णिमा आज, जानिए गुरु पूजन की क्या है परंपरा

Guru purnima (ashadha purnima) 2020, Vrat, Puja Vidhi: गुरु पूर्णिमा आज है. गुरु पूर्णिमा का पर्व आषाढ़ मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है. इस पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के साथ आषाढ़ पूर्णिमा भी कहते हैं. इस साल गुरु पूर्णिमा का पर्व 5 जुलाई दिन रविवार यानि की आज मनाया जाएगा. आज ही चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan 2020) लग रहा है. इस दिन भक्त अपने गुरु के सम्मान में कार्यक्रमों का आयोजन करेंगे और उनको श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे. इस दिन बड़ी संख्या में लोग गुरु से दीक्षा भी ग्रहण करते हैं. गुरु की कृपा से ज्ञान प्राप्त होता है और उनके आशीर्वाद से सभी सुख-सुविधाओं, बुद्धिबल और एश्वर्य की प्राप्ति होती है. इसलिए भारतवर्ष गुरु की दर्जा सबसे बड़ा माना गया है और उनको पूज्यनीय माना गया है. इसलिए गुरु के सम्मान में गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया जाता है.

हैप्पी गुरु पूर्णिमा…

गुरु बिन ज्ञान नहीं ।

ज्ञान बिन आत्मा नहीं ।।

ध्यान, ज्ञान, धैर्य और कर्म ।

सब गुरु की ही देन हैं ।।

शुभ गुरु पूर्णिमा

जै जै जै हनुमान गोसाई…

जिन लोगों का कोई गुरु नहीं हैं उनको चिंता करने कि आवश्यकता नहीं है, इस समस्या का समाधान गोस्वामी तुलसीदास ने कर दिया है. तुलसीदास ने हनुमान चालीसा में लिखा है,

जै जै जै हनुमान गोसाई

कृपा करहु गुरुदेव की नाई

गुरु की पूजन के लिए 4 मंत्र

– ॐ गुरुभ्यो नम:।

– ॐ गुं गुरुभ्यो नम:।

– ॐ परमतत्वाय नारायणाय गुरुभ्यो नम:।

ॐ वेदाहि गुरु देवाय विद्महे परम गुरुवे धीमहि तन्नौ: गुरु: प्रचोदयात्।

गुरु पूर्णिमा के दिन सत्यनारायण की कथा सुनने की है प्रथा 

आज गुरु पूर्णिमा है. बहुत से लोग गुरु पूर्णिमा के मौके पर सत्यनारायण की कथा भी सुनते हैं. लोग अपने घरों के सामने बंदनवार सजाते हैं. तुलसी दल मिला हुआ प्रसाद बांटते हैं. आज के दिन पूजा में लोग अपने देवताओं को फल, मेवा अक्षत और खीर का भोग लगाते हैं.

Share This Post