समस्तीपुर Town

Samastipur: धीरे-धीेरे बढ़ने लगी बाजार की गति, सुरक्षा व बचाव भगवान भरोसे

समस्तीपुर । अनलॉक वन की घोषणा के बाद से धीरे-धीरे बाजार की गति बढ़ने लगी है। दूसरे दिन मंगलवार को भी रोसड़ा बाजार गुलजार रहा। मुख्य बाजार से लेकर अन्य चौक-चौराहों पर भी लोगों की आवाजाही बढ़ी रही। लेकिन, इस सबके बीच संक्रमण से सुरक्षा और बचाव के उपायों में काफी कमी देखी गई। अधिकांश दुकानों पर सरकारी गाइडलाइन का अनुपालन नहीं हो पा रहा था। हालांकि इन दुकानों में ग्राहकों के लिए सैनिटाइजर की व्यवस्था अवश्य थी। लेकिन, शारीरिक दूरी नहीं बन पा रही थी। सरकार द्वारा सभी के लिए अनिवार्य किया गया मास्क भी 50 प्रतिशत से कम चेहरे पर ही लगा दिखा। कुछ लोग इसे भी शोभा की वस्तु समझ नाक और मुंह में लगाने के बजाय गर्दन में लटका कर घूम रहे थे। बताते चलें कि मंगलवार की सुबह से ही सभी प्रकार की दुकाने खुली थी। महीनों बाद दूसरे दिन दुकान खोल कर बैठे व्यवसायी के अंदर एक बड़े नुकसान का गम के साथ चेहरे पर पुन: व्यवसाय प्रारंभ होने की खुशी भी स्पष्ट झलक रही थी। 8 बजे के बाद धीरे-धीरे ग्राहकों का पहुंचना भी शुरू हो गया था। वही सुबह से ही रोसड़ा पुलिस बाजारों में घूम घूम कर दुकानदार एवं ग्राहकों को फिजिकल डिस्टेसिग का पालन, मास्क लगाने तथा प्रत्येक ग्राहकों को सैनिटाइज करने की अपील कर रहे थे। सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन नहीं करने पर कार्रवाई की भी चेतावनी दे रहे थे। आज रोसड़ा में अनलाक वन के दूसरे दिन करीब तीन करोड़ से अधिक का कारोबार होना बताया जाता है। ”रोसड़ा चेंबर ऑफ कॉमर्स ने सभी व्यवसायियों को सरकार के गाइड लाइन का अनुपालन करने का आग्रह किया गया है। गांव से आने वाले ग्राहक अभी भी बहुत सजग नहीं है। उन्हें फिजिकल डिस्टेंसिग के साथ-साथ मास्क लगाने की अपील की जाती है। कई प्रतिष्ठानों पर ऐसे ग्राहकों को मुफ्त में मास्क देने की भी व्यवस्था है।

कृष्ण कुमार लखोटिया ,अध्यक्ष रोसड़ा बस पड़ाव से खुली 6 बसें, सवार हुए केवल 9 लोग

अनलॉक वन में छोटे-बड़े वाहनों के परिचालन की छूट तो अवश्य मिल गई है। लेकिन लोगों के मन से अभी भी संक्रमण का भय समाप्त नहीं हो सका है। इसके कारण अभी भी बस मालिकों की स्थिति बेहाल है। जानकारी के अनुसार अनलॉक वन के दूसरे दिन मंगलवार को रोसड़ा बस पड़ाव से आधा दर्जन बसें खुली थी। जिसमें तीन पटना तथा तीन बेगूसराय के लिए रवाना हुई। सवारी की स्थिति यह थी कि 6 बसों पर कुल 9 यात्री ही बस पड़ाव में सवार हुए थे। पड़ाव कर्मी के अनुसार सुबह पटना के लिए खुली बस पर एक-एक तथा दिन के करीब 10 बजे 3 लोगों को सवार कर बस रवाना हुई थी। यही हाल बेगूसराय जाने वाली बस की भी थी। कर्मियों ने सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का शत-प्रतिशत पालन करने का दावा किया। वही आज भी पूरे दिन बस पड़ाव मे विरानगी छायी रही।

Share This Post