समस्तीपुर Town

मोहनपुर प्रखंड क्षेत्र में वज्रपात से हुई युवकों की मौत के बाद परिजनों ने किया पीएचसी में तोड़फोड़

समस्तीपुर। मोहनपुर प्रखंड क्षेत्र में शुक्रवार को वज्रपात से हुई युवकों की मौत पीएचसी में हो जाने के बाद परिजनों ने जमकर बवाल काटा। आक्रोशितों द्वारा मोहनपुर पीएचसी में तोड़-फोड़ किया गया। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. उमेश रजक से मिली जानकारी के अनुसार आक्रोशितों ने लगभग चार से पांच लाख की सामग्रियों को नुकसान पहुंचाया है। क्षतिग्रस्त सामग्रियों में लेबर रूम, ऑक्सीजन कान्सेट्रेटर, रेडिभेन्ट वार्मर, सक्षन मशीन, लेबर टेबुल, बीपी मशीन, आला, फ्रीज, सर्पदंश की दवा, कालाजार छिड़काव की दवा, कुर्सी, आलमारी और एंम्बुलेंस शामिल है। डा रजक ने बताया कि जिस वक्त घायलों को अस्पताल लाया गया था, उस समय वे नवनिर्मित भवन में कार्यालय के कार्यों को निपटारा कर रहे थे

उन तक मरीज के आने की सूचना पहुंचने के पूर्व उग्र भीड़ की आवाज सुनकर उनके द्वारा खिड़की से देखा गया। मृतक के परिजनों द्वारा बवाल मचाते और तोड़-फोड़ करते देखकर वे डर के मारे वहीं छिपे रहे और फोन करने वाले को अपने आवास पर होने की बात बताई। घायल युवक को मृत अवस्था में ही पीएचसी लाया गया था। ग्रामीणों के उग्र रूप को ओपी अध्यक्ष पवन कुमार के हस्तक्षेप से शांत कराया गया। पीएचसी सूत्र बताते हैं कि प्राथमिक उपचार के बाद उन दोनों को पीएमसीएच के लिए रेफर कर दिया गया था। इसी बीच दोनों की मौत हो गई। इससे ग्रामीण आक्रोशित हो गए। हालांकि इसको लेकर कोई एफआईआर दर्ज नहीं कराई गई थी।

मृतक के परिजनों को मिला चार-चार लाख का चेक

मोहनपुर,संस: शुक्रवार की शाम ठनका गिरने से मरने वाले डुमरी उत्तरी के राजेन्द्र राय, बघड़ा के लक्ष्मण कुमार और रामाकांत राय के परिजनों को चार-चार लेख का चेक प्रदान किया गया। यह चेक सीओ चंद्रकांत सिंह ने मृतकों के घर जाकर प्रदान किया। मौके पर विधायक एज्या यादव, पूर्व प्रमुख कमलकांत राय, भाजपा नेता राजेश कुमार सिंह, माकपा नेता मनोज कुमार सुनील, मुखिया रणवीर राय एवं महेश राय, जयमंगल यादव, संतोष पोद्दार आदि मौजूद थे। इनसेट चिकित्सा के अभाव में व्रजपात से घायल युवक ने दम तोड़ मोहनपुर, संस : वज्रपात से शुक्रवार की शाम घायल हुए बघड़ा पंचायत के युवकों की मौत हो गई। समय पर चिकित्सा नहीं होने के कारण उन तीनों की मौत होने की बात कही जा रही है। प्रखंड प्रमुख संगीता देवी ने बताया कि ठनका गिरने से घायल युवकों को आनन-फानन में मोहनपुर पीएचसी लाया गया था। पीएचसी पहुंचने पर एक भी चिकित्सक मौजूद नहीं थे। पूर्व प्रमुख कमलकांत राय द्वारा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को फोन किए जाने पर उन्होंने पीएचसी से अपने आवास पर जाने की बात कही। उनके द्वारा पीएचसी लौट जाने के आग्रह को भी प्रभारी द्वारा नजरअंदाज किया गया। जिस समय घायलों को पीएचसी में लाया गया उस वक्त एंबुलेंस के चालक भी मौजूद नहीं थे जिससे उसे इलाज के लिए बाहर ले जाया जाता। आखिर में घायल बघड़ा निवासी लक्ष्मण कुमार (16) व रमाकांत राय (16) युवकों ने दम तोड़ दिया।

Share This Post