रोसड़ा

समस्तीपुर जिलों के क्वारंटाइन जेल में क्षमता से अधिक बंदी, संक्रमण का खतरा

समस्तीपुर । चार जिलों के आधा दर्जन मंडल और उपकारा के लिए क्वारंटाइन जेल घोषित सबजेल रोसड़ा में शारीरिक दूरी का पालन संभव नहीं हो पा रहा। इसका मुख्य कारण है बंदियों की संख्या क्षमता से करीब दोगुना होना। संख्या अत्यधिक रहने के चलते कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव और सुरक्षा के लिए जारी गाइडलाइन का भी पालन संभव नहीं हो रहा है। वर्तमान में रोसड़ा जेल में 513 बंदी हैं। जबकि, इस जेल की क्षमता महज 232 थी। बाद में कारा महानिरीक्षक द्वारा क्षमता बढ़ाकर 274 कर दी गई। बावजूद क्षमता से 239 बंदी अधिक रहने के कारण क्वारंटाइन सेंटर के प्रावधानों का पालन कराना संभव नहीं दिख रहा।

आठ वार्ड और एक हॉल में रहने की व्यवस्था

कारा प्रशासन द्वारा सुरक्षात्मक ²ष्टिकोण से सभी प्रकार का प्रयास का दावा किया जा रहा। बंदियों के रहने के लिए निर्धारित कुल आठ वार्डो के अलावा कारा के अंदर बने एक हॉल में भी उनके रहने की व्यवस्था की गई है। साथ ही, नियमित स्क्रीनिग तथा विशेष साफ-सफाई का भी दावा किया जा रहा। सुबह शाम सैनिटाइजिग, संपूर्ण परिसर में फॉगिग के साथ-साथ प्रतिदिन छिड़काव जारी है। चिकित्सकों द्वारा नियमित बंदियों का चेकअप करने और कोरोना का प्राथमिक लक्षण भी दिखते ही कारा से उसे अस्पताल स्थानांतरित कर दिया जाता है। वर्तमान में भी दो बंदी सदर अस्पताल समस्तीपुर में इलाजरत हैं। इससे पूर्व एक बंदी को सर्दी, खांसी बुखार आदि रहने के कारण कोविड-19 की जांच भी कराई गई थी। रिपोर्ट निगेटिव आने के पश्चात समस्तीपुर के आइसोलेशन वार्ड से वह रोसड़ा जेल वापस आ चुका है।

छह जेलों के नए बंदियों के लिए की गई थी व्यवस्था

बताते चलें कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर समस्तीपुर के अलावा वैशाली, बेगूसराय एवं खगड़िया जिला अंतर्गत सभी छह जेलों के नए बंदियों के लिए उपकारा रोसड़ा को कारा महानिरीक्षक द्वारा अस्थाई क्वारंटाइन जेल घोषित किया गया था। साथ ही, सभी प्रकार के सुरक्षात्मक उपायों के साथ जेल मैनुअल के अनुरूप व्यवस्था सुदृढ़ करने का निर्देश उपकारा अधीक्षक को दिया था। उक्त आलोक में जेल प्रशासन द्वारा सभी प्रकार का सुरक्षात्मक उपाय तो अवश्य रूप से किया गया, लेकिन धीरे-धीरे बंदियों की संख्या बढ़कर जब क्षमता से डेढ़ गुना अधिक हो गई तो क्वारंटाइन की व्यवस्था को सु²ढ़ रखना निश्चित रूप से मुश्किल होगा।

वर्जन बंदियों की अत्यधिक संख्या की जानकारी कारा महानिरीक्षक को दी गई है। 14 दिन पूरा करनेवाले डेढ़ सौ से अधिक बंदियों को उनके मूल कारा में स्थानांतरित करने का आदेश प्राप्त हुआ है। जल्द ही इन्हें भेजा जाएगा। सुरक्षा के दृष्टिकोण से कारा के सभी बंदियों की प्रतिदिन चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा जांच व स्क्रीनिग कराई जा रही है। नियमित साफ- सफाई के साथ सैनिटाइजिग व फॉगिग जारी है।

Share This Post