बिहार

आज से बिहार लॉक :कहीं आने-जाने के लिए पास अनिवार्य नहीं होगा, बसें नहीं चलेंगी, धर्मस्थल-मॉल के बाद अब सभी पार्क भी बंद

गुरुवार से  31 जुलाई तक बिहार लॉक होगा। प्रशासन ने इसमें बड़ी राहत देते हुए दूसरे जिलों में जाने वाले वाहनों के लिए पास की अनिवार्यता खत्म कर दी है। पहले की तरह ऑटो रिक्शा और टैक्सी का परिचालन होगा। लेकिन, जांच के दौरान जाने-आने का आवश्यक कारण बताना होगा। बगैर आवश्यक कारण घर से निकलने वाले लोगों पर सख्त कानूनी कार्रवाई होगी। इस दौरान सिर्फ आवश्यक सेवाओं को छूट दी जाएगी। अन्य सरकारी व निजी संस्थान बंद रहेंगे। बसें नहीं चलेंगी। धार्मिक स्थल बंद रहेंगे।

सामाजिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक आयोजन भी नही होंगे। पार्क भी बंद रहेंगे। जिला, अनुमंडल, प्रखंड मुख्यालय और नगर निगम क्षेत्रों में यह प्रभावी रहेगा। मुख्य सचिव दीपक कुमार ने सभी जिलों के डीएम पर उनके यहां संक्रमण के खतरे के हिसाब से कड़े फैसले लेने का आदेश दिया है। लेकिन किसी भी हाल में कोई नरमी नहीं बरती जाएगी। डीएम ने कहा कि आवश्यक सामाग्री की खरीदारी मुहल्ले की दुकानों से करनी है। घर से बाहर निकलने पर मास्क अनिवार्य होगा।

दूध-दवा-किराना सामान पहले जैसे ही मिलेंगे

सुबह 6 बजे से रात 10 बजे के बीच दूध, किराना, दवा, पशुचारा की दुकानें खुलंेगी। जहां रात में दवा दुकानें खुलती हैं वहां पहले की तरह खुलेंगी। सुबह 6 बजे से 10 बजे तक और शाम 4 बजे से 7 बजे तक सब्जी, फल, मीट, मछली की दुकानें खुलेंगी।

इन कार्यालयों को खोलने की अनुमति

जिला प्रशासन, पुलिस, होमगार्ड, सिविल डिफेंस, ट्रैजरी, बिजली, वाटर, नगर निगम, बैंक, एटीएम, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल, कोषागर, बिजली उत्पादन ईकाई, पोस्ट ऑफिस, बीमा कंपनी, प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, ब्रॉडकास्टिंग सर्विस यानी केबल सर्विस, पेट्रोल पंप, एलपीजी गैस, शेयर मार्केट, कोल्ड स्टोरेज, प्राइवेट सिक्युरिटी गार्ड, इंडस्टिज, होटल मिनिमम कर्मचारी के साथ चलाना है। 

घर से बाहर मॉर्निंग वॉक की छूट भी खत्म

जन वितरण दुकानें, गैराज समय से खुलेेंगे। होटल-रेस्टोरेंट खुले रहेंगे। लेकिन, बैठ कर खाने की अनुमति नहीं है। सभी धर्मस्थल बंद रहेंगे। गांधी मैदान, पार्क आदि बंद रहेंगे। यानी मॉर्निंग वाक पर रोक रहेगी। धार्मिक, सामजिक आयोजन भी नहीं हो सकेंगे। 

Share This Post