समस्तीपुर Town

पटरी पर लौटी सदर अस्पताल की व्यवस्था, विभागों में मुस्तैद रहे चिकित्सक

समस्तीपुर । कोरोना संकट के बीच अब सामान्य मरीज भी अस्पताल पहुंचने लगे हैं। सदर अस्पताल में ओपीडी सेवा की शुरुआत होने का असर है कि सुदूर देहात से भी मरीज इलाज के लिए आने लगे हैं। कोरोना के कारण अस्पतालों की ओपीडी में मरीजों की संख्या कम है। सदर अस्पताल के साथ रेफरल अस्पताल और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में भी मरीजों की संख्या में लगातार कमी आई है। दवा काउंटर पर जांच के लिए पुर्जा बनानेवाले कर्मी काफी एहतियात बरत रहे। मरीज खिड़की के बाहर से पुर्जा दिखा कर दवा ले रहे। हालांकि, अस्पताल परिसर में प्रशासनिक अव्यवस्था की वजह से लोग फिजिकल डिस्टेंस का पालन नहीं करते दिखे।

सदर अस्पताल में सोमवार को ओपीडी व इमरजेंसी सेवा संचालित हो रही थी। निबंधन काउंटर से लेकर दवा वितरण काउंटर तक मरीजों की भीड़ भी दिखी। इमरजेंसी वार्ड में ड्यूटी पर तैनात हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. डीके शर्मा मरीजों का सावधानीपूर्वक इलाज कर रहे थे। ओपीडी में सामान्य वार्ड में ही शिशु मरीजों को भी डॉ. जावेद द्वारा देखा जा रहा था। इसके अलावा सर्जरी विभाग में डॉ. पीडी शर्मा, टीबी में डॉ. बीके सिंह मरीजों का इलाज कर रहे थे। नेत्र व महिला ओपीडी संचालित हो रही थी। अस्पताल में बढ़ी मरीजों की संख्या को देखते हुए चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मी मास्क का प्रयोग कर रहे हैं। ओपीडी में मरीजों के उपचार के दौरान शारीरिक दूरी का भी पालन किया जा रहा है। वहीं, मरीजों को मास्क का इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

इलाज के लिए पहुंच रहे करीब 150 मरीज

जनवरी और फरवरी के आंकड़ों के अनुसार मार्च, अप्रैल और मई में 30 फीसद से भी कम मरीज इलाज के लिए अस्पताल पहुंचे हैं। नतीजतन, काफी कम संख्या में लोग सदर अस्पताल पहुंच रहे हैं। ओपीडी के अलग-अलग वार्डों में भी मरीज कम देखे गए। यहां सबसे ज्यादा भीड़ सामान्य मेडिसिन विभाग में रहती है। सामान्य ओपीडी में 600 से 700 मरीज प्रतिदिन इलाज के लिए आते थे, लेकिन अभी ओपीडी में सभी वार्ड मिलाकर लगभग 150 मरीज भी नहीं पहुंच पा रहे हैं। कोरोना के कारण दूरदराज के क्षेत्रों से आने वाले मरीजों की संख्या में काफी कमी है।

एक्सरे बंद रहने से परेशान रहे मरीज

सदर अस्पताल में इलाज के लिए आनेवाले मरीजों का एक्सरे नहीं हो रहा है। इस कारण मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। जबकि, पैथोलॉजी जांच होने से मरीजों की भीड़ उमड़ी रही। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिले के सभी चिकित्सक भी एहतियात बरत रहे। उन्हें अपनी सुरक्षा की चिता भी सता रही है। कई चिकित्सक अस्पताल में मरीजों को देख रहे हैं। लेकिन, मरीजों की संख्या काफी कम है।

सुरक्षा मानकों का रखा जा रहा ख्याल

सदर अस्पताल उपाधीक्षक डॉ. अमरेंद्र नारायण शाही ने बताया सरकार के निर्देश आने के साथ ही ओपीडी सेवा शुरू कर दी गई थी। साथ ही, इलाज कराने के लिए आनेवाले लोगों की सुरक्षा को लेकर तमाम काम किए जा रहे हैं। अस्पताल परिसर को सैनिटाइज करने के साथ ही फिजिकल डिस्टेंसिग का भी पालन कराया जा रहा।

Share This Post